स्वतंत्रता दिवस के मौके पर उत्तराखंड के सीएम का संबोधन, “उत्तराखंड विकास का एक माडल बनेगा…”

0
84

कल पूरे देश ने आजादी का अमृत महोत्सव मनाया, इस दौरान देश के हर घर में तिरंगा फहराया गया। इसके लिए कई बड़े राज्यों के नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शुक्रिया बोला। स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के शुभ अवसर पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि “आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में राष्ट्र में अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। देश के घर-घर में फहराता तिरंगा विश्व को ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ का संदेश दे रहा है।”

वह आगे कहते हैं कि “प्रधानमंत्री का उत्तराखंड के प्रति विशेष लगाव किसी से छुपा नहीं है। पिछले आठ वर्षों में केंद्र सरकार ने एक लाख 50 हजार करोड़ से अधिक की परियोजनाएं उत्तराखंड के लिए स्वीकृत की है। राज्य सरकार इकोनामी और इकोलाजी में संतुलन बनाते हुए विकास का रोडमैप तैयार कर रही है।” उन्होंने आगे कहा कि “उत्तराखंड और केंद्र सरकार आपस में समन्वय बनाकर 2025 तक उत्तराखंड को भारत का सर्वश्रेष्ठ एवं आदर्श राज्य बनाने की दिशा में कार्य कर रहा है।”

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपने संबोधन को जारी रखते हुए कहते हैं कि “उत्तराखंड के विकास का रोडमैप जिस प्रकार से किया जा रहा है, वह आगामी भविष्य में हिमालयी राज्यों के लिए भी एक माडल अवश्य बनेगा। हमने अपने वादे के अनुसार, समान नागरिक संहिता के लिये कमेटी का गठन कर दिया है। कमेटी की तीन अहम बैठकें भी हो चुकी है। राज्य सरकार कुमाऊं के प्राचीन मंदिरों के लिये मानसखण्ड मंदिर माला मिशन पर भी कार्य कर रही है। उत्तराखण्ड देवभूमि ही नहीं, वीरभूमि भी है। देहरादून में भव्य सैन्य धाम की स्थापना की जा रही है।

सीएम धामी ने आगे कहा कि “हमारी सरकार अन्त्योदय की भावना के अनुरूप विकास का लाभ अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति तक पहुंचाने का प्रयास कर रही है। आने वाले तीन वर्षों में उत्तराखण्ड को प्रत्येक क्षेत्र में आदर्श राज्य बनाने के लिये हमारी सरकार विकल्प रहित संकल्प के साथ काम कर रही है।” इसके अलावा उन्होंने खेलों को लेकर भी बातचीत की। उन्होंने कहा कि “राज्य में खेल और खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए नई खेल नीति लाई गई है। स्पोर्ट्स कॉलेज रायपुर को अंतराष्ट्रीय स्तर का स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय बनाने हेतु प्रयास किये जा रहे हैं।”