PAK को झटका, मालदीव भी सार्क बैठक से हटा, कहा- क्रॉस बॉर्डर टेररिज्म बड़ा खतरा

0
90

आतंकवाद के मामले पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने की भारत की रणनीति कामयाब होती दिख रही है. अब मालदीव ने भी इस्लामाबाद में होने वाले सार्क सम्मेलन से खुद को दूर कर लिया है. भारत ने आतंकी संगठनों के मददगार पाकिस्तान में सार्क बैठक के बहिष्कार का ऐलान किया था. इसके बाद बांग्लादेश, भूटान, अफगानिस्तान, श्रीलंका ने भी सार्क बैठक से दूरी बना ली थी. अब मालदीव ने भी साफ कर दिया है कि वो इस सम्मेलन में हिस्सा नहीं लेगा.
मालदीव सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि सार्क के कई सदस्य देशों ने इस्लामाबाद में नवंबर में होने वाले सम्मेलन से अपना नाम वापस ले लिया है वह भी उनके साथ है. इन देशों ने पाकिस्तान की ओर से आतंकवाद को मिल रही मदद और उससे उत्पन्न खतरे और क्षेत्रीय अशांति को इसका कारण बताया है. मालदीव ने आतंकवाद की कड़ी निंदा की है और कहा कि सीमापार आतंकवाद क्षेत्रीय सुरक्षा और शांति के लिए खतरा है.
अब भारत समेत 6 देशों की ओर से सार्क सम्मेलन का बहिष्कार किए जाने के बाद पाकिस्तान आखिरकार घुटनों के बल आ गया है. पाकिस्तान ने शुक्रवार को ऐलान किया कि सम्मेलन फिलहाल स्थगित किया जा रहा है और नई तारीखों का ऐलान जल्द किया जाएगा.
श्रीलंका ने शुक्रवार को ही सार्क समिट में शामिल नहीं होने का फैसला किया था. इससे पहले भारत, बांग्लादेश, भूटान और अफगानिस्तान भी इस्लामाबाद में होने वाले सार्क सम्मेलन में जाने से मना कर चुके हैं. उरी अटैक के बाद भारत ने पाकिस्तान पर आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए सार्क की बैठक में शामिल होने से मना कर दिया था.
दरअसल भारत के सार्क में शामिल होने से इनकार करने के बाद ही कई देशों ने भारत का समर्थन करते हुए इस्लामाबाद के सम्मेलन में शिरकत करने से मना किया. लेकिन श्रीलंका का सार्क में न जाने का फैसला ठीक उस वक्त आया है जब श्रीलंका के पीएम रनिल विक्रमेसिंघे भारत का दौरा करने वाले हैं. 4 से 6 अक्टूबर को श्रीलंका के पीएम भारत में होंगे.
आठ सदस्यीय सार्क का मौजूदा अध्यक्ष नेपाल है और इस लिहाज से नेपाली मीडिया की इस खबर की अहमियत भी है. भारत ने अपने फैसले से नेपाल को अवगत करा दिया है कि पीएम नरेंद्र मोदी नवंबर में प्रस्तावित सार्क सम्मेलन में हिस्सा लेने इस्लामाबाद नहीं जाएंगे. नियमों के मुताबिक सम्मेलन में सभी सदस्य देशों की मौजूदगी जरूरी है. अगर एक भी सदस्य सम्मेलन में हिस्सा नहीं लेता है तो इसे स्थगित करना पड़ता है या रद्द करना पड़ता है. साल 1985 में बने इस गुट में भारत, पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश, भूटान, श्रीलंका और अफगानिस्तान शामिल हैं.
1985 के बाद ये पहला मौका होगा जब भारत ने सार्क सम्मेलन का बायकॉट करने का फैसला लिया है. भारत के अलावा सार्क के अन्य तीन सदस्य देशों ने भी पाकिस्तान पर आंतक को पनाह देने का आरोप लगाते हुए सम्मेलन का बहिष्कार करने का ऐलान किया है. वहीं, पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने भारत के फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है.