मानसून सत्र से पहले सांसदों के लिए जारी हुई नई एडवाइजरी, शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन…

0
20

मानसून सत्र से पहले ही विपक्ष का हंगामा शुरू हो चुका है। हालांकि ऐसा पहली बार नहीं हो रहा। हर साल ही मानसून सत्र से पहले और इसके दौरान विपक्ष का जबरदस्त हंगामा देखने को मिलता है। बता दें कि इस बार ये हंगामा सांसदों के लिए जारी की गई नई एडवाइजरी की वजह से हो रहा है। नई एडवाइजरी के मुताबिक कोई भी सांसद सदन के भीतर किसी भी तरह का पर्चा, बुकलेट, तख्ती आदि नहीं बांट सकता। जिसके विरोध में कई सांसद आवाज उठा रहे हैं। कई सांसदों ने इसको लेकर ट्वीट भी किया है।

बताते चलें कि मानसून सत्र से पहले जारी की गई एडवाइजरी में कहा गया है कि “कोई भी साहित्य सामग्री, प्रश्नावली, पैम्फलेट, प्रेस नोट, लीफलेट या प्रिंटिड सामग्री बिना स्पीकर की पूर्व अनुमति के सदन के भीतर नहीं बांटी जा सकती। इसके अलावा संसद परिसर के भीतर तख्तियां भी सख्त वर्जित हैं। सदस्य किसी भी प्रदर्शन, धरना, उपवास या किसी धार्मिक समारोह के लिए सदन के परिसर का इस्तेमाल नहीं कर सकते। सदस्यों का सहयोग अपेक्षित है।” इसके विरोध में कई सांसद प्रदर्शन पर उतर आए हैं।

बता दें कि इस दौरान कांग्रेस के राज्यसभा सांसद जयराम रमेश सहित संसद के कई सदस्यों ने एडवाइजरी को लेकर ट्वीट किया है। वहीं, सूत्रों का कहना है कि “यूपीए शासन के दौरान जारी किए गए ऐसे कई सर्कूलर सार्वजनिक डोमेन में हैं। उनमें से एक 2 दिसंबर, 2013 को और दूसरा 3 फरवरी, 2014 को लाया गया था।” इस बीच खबर है कि केंद्र के खिलाफ विपक्ष ने एकजुट होने का फैसला कर लिया है। ऐसे में मानसून सत्र में केंद्र के सामने काफी मुश्किलें पेश आने की संभावना है।