महाराष्ट्र : हीट स्ट्रोक से मौत के बाद एक्शन में सरकार, गाइडलाइन जारी

0
70

महाराष्ट्र :  गर्मी ने खतरनाक तपिश वाली दस्तक दी है. हीट वेब अब जानलेवा भी होने लगी है, देश में गर्मी से मौत का पहला मामला सामने आया है. नवी मुंबई में आयोजित महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार कार्यक्रम में लू की चपेट में आने से अब तक 14 लोगों की मौत हो गई है. सात मरीज अब भी अस्पताल में भर्ती हैं. इस मामले को लेकर महाराष्ट्र सरकार एक्शन में आ गई है. महाराष्ट्र सरकार ने खुले में रैली को लेकर गाइडलाइन जारी की हैं.

पूरे महाराष्ट्र में दोपहर 12 बजे से शाम 5 बजे के बीच खुली जगहों पर कोई समारोह/कार्यक्रम तब तक आयोजित नहीं किया जाना चाहिए जब तक कि पूरे राज्य में गर्मी की स्थिति हल्की न हो जाए. महाराष्ट्र सरकार इस संबंध में एक जीआर (सरकारी संकल्प) जारी करेगी. कैबिनेट मंत्री मंगल प्रभात लोढ़ा ने इस बात की पुष्टि की है.

वहीँ, इस मामले को लेकर विपक्ष ने सरकार को घेर लिया है. महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता अजित पवार ने इस मामले में राज्य सरकार के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किए जाने की मांग की है. मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को लिखे एक पत्र में पवार ने कहा कि ये त्रासदी प्राकृतिक नहीं, बल्कि यह मानव निर्मित आपदा है और इसके लिए राज्य सरकार जिम्मेदार है. पवार ने इस घटना की एक सेवानिवृत्त जज से मामले की जांच कराने की मांग की है. उन्होंने सरकार से मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये के बदले 20-20 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की भी मांग की.

खारघर क्षेत्र में रविवार को एक खुले मैदान में इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. चिलचिलाती धूप में आयोजित कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया था, जिनमें अधिकतर लोग महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार से सम्मानित अप्पासाहेब धर्माधिकारी के अनुयायी थे. कार्यक्रम के दौरान लू लगने और अन्य स्वास्थ्य जटिलताओं के कारण अब तक 14 लोगों की मौत हो चुकी है.