लॉकडाउन के चलते शादी में नि’भाई गयी ये अनोखी रस्म, दूल्हा दुल्हन ने…

0
415

जहां पूरे भारत में कोरोना वाय’रस की वजह से शादियों और बाकी अन्य समारोह पर रोक लगी हुई है तो वहीं दूसरी नवादा जिले के हिसुआ में अलग ही शादी हुई है। शादी के ना तो बैंड बाजा था, ना ताम झाम और ना ही रिश्तेदारों की भीड़ थी। इस शादी में तकरीबन दस लोग शामिल थे। इस सब के बावजूद भी यह शादी पूरे रीति रिवाजों के साथ की गई। बताया जा रहा है कि दूल्हा और दुल्हन के साथ साथ वहां मौजूद सभी लोगों ने मास्क लगाए हुए थे। यह पूरी शादी शेखपुरा के डीएम से अनुमति लेने के बाद। बता दें कि शादी से पहले दूल्हे ने डीएम से अनुमति मांगी थी जिसके बाद उन्हें पास दिए गए। पास के सहारे बुधवा’र को बरबीघा से एक वाहन में बैठकर दूल्हा के साथ साथ चार और लोग हिसुआ पहुंचे थे।

दरअसल यह मामला हिसुआ का है जहां काली स्थान निवासी स्व’र्गीय धर्मदेव कंधवे की बेटी कुमारी श्वेता का विवाह शेखपुरा के बरबीघा में हनुमान गली के रहने वाले स्व’र्गीय गोपाल प्रसाद वैश्कियार के बेटे गौरव कुमार वैश्कियार के साथ 25 मार्च को होने वाला था। लेकिन लॉकडाउन के कार’ण यह संभ’व ना हो सका। जिसके बाद लड़के के परिवा’र वालों ने डीएम से अनुमति ली और साथ ही लॉकडाउन के नियमों का पालन भी करने को कहा। डीएम के आदेश पर लड़के वालों को पास दिया गया। जिसके सहारे वह 15 अप्रैल को लड़के के साथ तीन और बाराती वहां ले कर लड़की के घर पहुंचा।

बता दें कि इस पूरे समारोह में केवल दूल्हा दुल्हन के साथ बाकी 10 के करीब लोग होंगे। सभी लोग मास्क लगाए हुए थे। यह शादी दूल्हा दुल्हन ने मास्क पहन कर और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन करने के साथ की। शादी इतनी सादा तरीके से हुई कि इसकी खबर मुहल्ले वालों को भी नहीं लगी थी। शादी के बाद सोशल मीडिया पर डाली गई तस्वीरों से लोगों को इस बात की खबर हुई। यह खबर फैलते ही चर्चा का विष’य बन गई। यह शादी 15 अप्रैल की रात को हुई थी और सुबह होने से पहले ही लड़के वाले लड़की को लेकर निकल गए थे।