उत्तराखंड में आफत की बारिश : रामगंगा नदी पर बनी झील, मंडरा रहा बड़ा खतरा

0
65
पिथौरागढ़ : उत्तराखंड में भारी बारिश आफत बनकर बरस रही है। भारी बारिश के कारण की सड़कें बंद हो गयी हैं। इसके चलते लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। पिथौरागढ जिले में भी लगातार तीसरे दिन बारिश का दौर जारी है। बारिश के कारण हरड़िया नाले में गट घोरगाड़ी और सुकतोली गांवों की पहाड़ी से लगातार भूस्खलन हो रहा है। मलबा नदी में गिर रहा है, जिसके चलते रामगंगा नदी में झील बन गयी है। रामगंगा नदी पर बनी 30 फुट गहरी और 700 मीटर लंबी झील खतरा बन सकती है।
नदी में मलबा पटने के कारण रामगंगा हरड़िया से नीचे नाचनी फल्याटी और रिगुनिया तक दो मीटर ऊपर बह रही है। बाढ़ सुरक्षा के लिए बनाए गए तटबंध के आधे हिस्से तक मलबा भर गया है। हरड़िया वैली ब्रिज मलबे से मात्र 10 फुट ऊपर है। हरड़िया नया बस्ती में थल-मुनस्यारी सड़क वाहनों और राहगीरों के खतरनाक बनी हुई है। पहाड़ी से लगातार बोल्डर और मलबा गिर रहा है। दिल्ली-मुनस्यारी रोडवेज बस आगे नहीं जा पा रही है। चालक को बस नाचनी में ही खड़ी करनी पड़ रही है।
दर्जनों गांवों को मुख्यालय से जोड़ने वाले सौन पट्टी क्षेत्र में पुल की दीवार पर आई दरार एक साल बाद भी ठीक नहीं की गई है। पूर्व बीडीसी सदस्य रमेश चंद ने कहा कि बडारी, कांटेबोरा, बोनकोट मोटर मार्ग जगह-जगह क्षतिग्रस्त हो गया है।  सड़क का मलबा और पानी बहकर केनखोला गांव में पहुंच रहा है जिससे उपजाऊ भूमि को नुकसान पहुंच रहा है और पेयजल योजना दूषित हो रही है। लोनिवि अधिकारियों से मोटर पुल की दरार आने की शिकायत की गई है लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।