कृषि कानूनों की वापसी पर बोले राकेश टिकैत, “कानून वापस लेने से मिशन यूपी बंद नहीं होगा…”

0
21

शुक्रवार के दिन गुरुपर्व के मौके पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी डिजिटल कॉन्फ्रेंस के जरिए देशवासियों से जुड़े। इस दौरान उन्होंने देशवासियों को संबोधित किया। इस संबोधन के दौरान पीएम मोदी तीनों कृषि कानून वापस लेने का ऐलान किया और किसानों से आंदोलन खत्म करने की अपील की। पीएम मोदी के इस ऐलान के बाद राजनीतिक दलों में चर्चा तेज हो गई है। मोदी सरकार के इस फैसले के बाद किसान नेता राकेश टिकैत का बयान भी सामने आया है। राकेश टिकैत कहना है कि अभी ये आंदोलन खत्म नहीं होगा।

राकेश टिकैत ने अपने बयान में कहा कि “मैंने कभी नहीं सोचा था कि प्रधानमंत्री कानून को वापस ले लेंगे। मिशन यूपी चलता रहेगा। 22 नवंबर को लखनऊ में पंचायत होगी। हमारे खिलाफ कार्टून बनाए गए, मवाली कहा गया। ये सारी चीजें पंचायत में रखेंगे।” उन्होंने कहा कि “हमारा धरना किसी राजनीतिक पार्टी के कहने से न चलेगा, न खत्म होगा। एमएसपी ( MSP)की गारंटी भी एक मुद्दा है। आज संयुक्त मोर्चा की मीटिंग में फैसला होगा कि क्या करना है?” इसके अलावा इस दौरान उन्होंने यूपी चुनाव का भी जिक्र किया। राकेश टिकैत ने कहा कि “कोई भी सरकार अगर गलत काम करेगी तो उसके खिलाफ आंदोलन चलेगा। हम जनता को अपनी मुद्दे बताएंगे। हम जनता के बीच में जाएंगे और बातचीत करेंगे।”

बता दें कि मोदी सरकार के तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन करीब एक साल से चल रहा है। इस एक साल में मोदी सरकार और किसानों के बीच कई बैठक हुईं, लेकिन इस समस्या का कोई समाधान नहीं निकला। इन कानूनों को जून, 2020 में सबसे पहले अध्यादेश के तौर पर लागू किया था। जिसके बाद सितंबर के मॉनसून सत्र में इसपर बिल संसद के दोनों सदनों में पास कर दिया। ऐसे में किसानों ने इसका विरोध प्रदर्शन तेज कर दिया और 26 नवंबर तक दिल्ली की सीमा पर पहुंच गए।