किसान बिल पर बोले कृषि मंत्री, ‘MSP ख़त्म नहीं होगी पर क़ानून का हिस्सा नहीं’

0
102

किसान बिल (Farm Bill) के संसद से पास होने के बाद से लगातार इसका विरोध जारी है। बहुत से राज्यों में इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी जारी है। ऐसे में पंजाब और हरियाणा के किसानों ने 3 दिनों का रेल रोको आंदोलन भी शुरू कर दिया है। जिसको देख अब कृषि मंत्री ने विपक्षी पार्टियों पर लोगों में भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि इस बिल से MSP पर कोई असर नहीं पड़ेगा। MSP जारी रहेगा। पंजाब में कांग्रेस के साथ शिरोमणि अकाली दल (SAD) ने इस बिल को किसान विरोधी बताया। जिसके बाद अब कृषि मंत्री ने कांग्रेस के ऊपर निशाना साधा।

एक न्यूज एजेंसी से बात चीत के दौरान उन्होंने कहा,”किसानों के लिए सरकार एक के बाद एक कई कदम उठा रही है। लेकिन इसके बाद भी वैसा नहीं हो रहा था जैसा हम किसानों के लिए बेहतर समझते थे। जिसके बाद हमने दो अध्यादेश बनाए जिनको अब जारी कर दिया गया है।” उन्होंने कहा,”कृषक उपज व्‍यापार और वाणिज्‍य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020 और दूसरा कृषक (सशक्‍तिकरण व संरक्षण) कीमत आश्‍वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक, 2020. ये दोनों विधेयक निश्चित रूप से किसान को APMC की जंजीरों से आजाद करने वाले हैं।”

अपनी बात को आगे रखते हुए उन्होंने कहा,”पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह बस राजनीतिक बयानबाजी कर रहे हैं। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि आखिर क्यों उनकी पार्टी ने APMC एक्ट खत्म करने की बात करते हुए अंतरराज्यीय व्यापार शुरू करने की पहल की थी। कांग्रेस सिर्फ किसानों को तथ्यहीन आधारों पर भड़का और बहका रही है।” बिल के खिलाफ कांग्रेस की बातों पर तोमर ने कहा, “कांग्रेस इस बिल को मौत का सौदा बता रही है। मैं कहूंगा कि कांग्रेस का नेतृत्व बौना हो गया है। कांग्रेस अब न खेती किसानी को समझती है और न ही किसी चीज को। कांग्रेस में जो लोग इसे समझते हैं, उनकी कोई सुनता नहीं है। मैं कांग्रेस से कहना चाहता हूं कि अगर आपको सवाल पूछना, विमर्श है तो बिल के प्रावधानों पर करें। कांग्रेस का कोई भी नेता चाहे वो केंद्र का हो या राज्य का हो, उसे पहले ये बोलना चाहिए कि हमने जो घोषणा अपने घोषणापत्र में की थी, अब हम उससे पलट रहे हैं तो मैं उनका बहस सुनने को तैयार हूं।”