जन्मदिन के मौके पर ग़ज़ल सम्राट जगजीत सिंह से जुड़ी कुछ खास बातें, छह महीने के लिए…

0
111

जब भी ग़ज़लों का ज़िक्र होता है तो सभी के ज़हन और दिमाग पर एक ही नाम आता है। जिन्होंने अपनी आवाज़ से लोगों के दिलों-दिमाग पर पूरी तरह काबू पा लिया है। जी हां हम बात कर रहे हैं ग़ज़लों के सम्राट (Ghazal king) जगजीत सिंह (Jagjit Singh) की। जगजीत सिंह ने अपने करियर में बहुत सी मशहूर ग़ज़लों को अपने बोल दिए। साथ ही उन्होंने बॉलीवुड फिल्मों के बहुत से गाने भी गाए। बता दें कि आज ग़ज़लों के सम्राट जगजीत सिंह का जन्मदिन है। हालांकि अब वह हमारे बीच में नहीं हैं लेकिन आज भी उनकी आवाज़ और उनके बोल लोगों के दिलों में जिंदा हैं।

जगजीत सिंह ने 150 से ज्यादा एलबम बनाईं. फिल्मों में गाने भी गाए, लेकिन गजल और नज्म ने उन्हें अद्वितीय लोकप्रियता दिलाई। उन्होंने होठों से छू लो तुम’, ‘झुकी झुकी सी नजर’, ‘ये दौलत भी ले लो’, ‘होश वालों को खबर क्या’, ‘चिट्ठी न कोई संदेश’ और ऐसे ही अनगिनत गजलों-नज्मों को गा कर अमर कर दिया। उनका जन्म 8 फरवरी 1941 को राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में हुआ था। उनको बचपन से है गाने का शौक था। उन्होंने अपने करियर की शुरआत करते समय बहुत सी मुश्किलों का सामना किया। 1965 में जगजीत सिंह मुंबई पहुंच गए थे। शुरुआती दिनों में मुंबई में उनके पास रहने और खाने के लिए पैसे नहीं थे। मजबूरी में घर चलाने के लिए वे शादियों में गाने गाया करते थे।

धीरे धीरे अपने आवाज़ से वह लोगों के दिलों में उतरते गए और आखिर में वो इस मुकाम पर पहुंच गए जहां किसी और का आना काफी मुश्किल है। ग़ज़लों की दुनिया में अपनी पहचान बनाते बनते फिर उनकी मुलाक़ात मशहूर गायिका चित्रा सिंह (Chitra Singh) से हुई। पहली बार में तो चित्रा ने जगजीत सिंह की भारी आवाज की वजह से उनके साथ गाने से इंकार कर दिया। हालांकि कुछ समय बाद दोनों की दोस्ती हो गई और वह इस दोस्ती को आगे बढ़ाते हुए जीवन साथी बन गए। उसके बाद दोनों ने बहुत से गाने गाए।

फिर एक समय ऐसा आया जब दोनों ही एक दम से खामोश हो गए और गानों की दुनिया से दूर चले गए। ये समय वो था जब एक हादसे में उनके बेटे विवेक का निधन हो गया। जिसके बाद करीब 6 महीने बाद जगजीत सिंह ने खुद को संभाला और फिर से गाना शुरू कर दिया। लेकिन दूसरी ओर उनकी पत्नी चित्रा खुद को कभी संभाल ही नहीं पाई। उन्होंने पूरी तरह गाना बंद के दिया। जिसके बाद साल 2011 में जगजीत सिंह के भी निधन हो गया।