चंद्रयान 2 के लैंडर विक्रम से जुड़ी इस ख़बर से नासा को मिली राहत

0
460
Chandrayaan 2

सभी भारतीय नासा के चंद्रयान 2 के लिए उत्साहित ही नहीं थे बल्कि जब विक्रम लैंडर से संपर्क टूटा तो भी सभी ने नासा को धीरज बंधाने में कोई कसर नहीं छोड़ी और जब से एक बार फिर विक्रम लैंडर से सम्पर्क साधने की ख़बरें आयीं तो सभी के मन में बस यही आस बंधी है कि किसी तरह ये सम्पर्क सध जाए। इस कोशिश में जहाँ आम नागरिक नासा को भावनात्मक साथ दे रही हैं वहीं देश के बाहर से भी मदद आयी है।

जहाँ इधर इसरो की विक्रम लैंडर से संपर्क बनाने की लगातार कोशिश जारी है और इसरो अपने डीप स्पेस नेटवर्क से लगातार सिंग्नल भेज रहा है| वहीं ख़बरें हैं कि अब अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (NASA) भी इसरो की मदद के लिए विक्रम लैंडर से संपर्क बनाने की कोशिश कर रही है| नासा की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी (JPL) विक्रम लैंडर से संपर्क बनाने के लिए रेडियो सिग्नल भेज रही है|

इसरो के एक अधिकारी ने बताया की विक्रम लैंडर से संपर्क करने की हमारी कोशिश लगातार जारी है और ये प्रयास 20-21 सितम्बर तक जारी रहेगा क्योंकि उस समय सूरज की रोशनी वहाँ होगी जहाँ विक्रम लैंडर उतरा है| खगोलविद स्कॉट टायली ने भी ट्वीट करके विक्रम लैंडर से संपर्क बनने की संभावना जताई है|

नासा के द्वारा 2000 में एक उपग्रह लॉन्च किया गया था जिससे संपर्क पांच साल बाद टूट गया था| टायली ने ये उपग्रह 2018 में खोजा लिया था| विक्रम लैंडर का संपर्क कुछ चाँद की सतह पर उतरने के महज 2.1 किलोमीटर पहले ही टूट गया था| जिसे इसरो के सभी अधिकारी निराश हो गये थे लेकिन उम्मीद अभी है कि लैंडर से संपर्क स्थापित किया जा सकता है|इसमें नासा को अब इसरो की मदद मिलने से उम्मीदें और भी बढ़ गयी हैं।