भारत के 'स्मॉग बम' से घबराया पाकिस्तान, लाहौर और कराची आए जद में

0
83

दिल्ली-एनसीआर में हफ्ते भर से छाया स्मॉग पड़ोसी मुल्क तक पहुंच गया है. पंजाब से सटे पाकिस्तान के लाहौर और कराची में ‘स्मॉग बम’ से सभी हैरान हैं.
बीते तीन-चार दिनों से लाहौर शहर के आसमान में धुंध की तरह छाई है. लोगों ने आंखों में खुजली और सांस लेने में दिक्कत की शिकायत की है. आपको बता दें कि लाहौर में ऐसे हालात पहली बार बने हैं. पाकिस्तान के मौसम विभाग का कहना है कि इस तरह के हालात समूचे पंजाब प्रांत में नवंबर से दिसंबर तक रह सकते हैं.
पाकिस्तान की शिकायत है कि भारत के पंजाब में किसान अपने खेतों में फसलें कटने के बाद बचा-खुचा भूसा खेतों में जला देते हैं. इस वजह से पाकिस्तान के पंजाब प्रांत और कराची समेत देश के तमाम औद्योगिक शहरों में स्मॉग का कहर है. लाहौर से इस्लामाबाद के बीच मोटरवे पर भी दृश्यता कम है. इस मोटरवे पर वाहनों की काफी आवाजाही रहती है. मोटरवे के अधिकारियों ने लोगों को धीमी स्पीड से चलने और फॉग लैंप का इस्तेमाल करने की सलाह दी है.
पाकिस्तान के मौसम विभाग ने कहा है कि चूंकि नवंबर और दिसंबर में बारिश की संभावना बिल्कुल ही नहीं है, ऐसे में स्मॉग से राहत मिलने की उम्मीद नहीं है. खासकर शहरी इलाके स्मॉग से ज्यादा प्रभावित होंगे. पंजाब के मुख्यमंत्री शहबाज शरीफ ने स्मॉग को गंभीरता से लेते हुए मौसम के हालात पर नजर रखने के लिए एक कमेटी का गठन भी किया है.
पंजाब की सरकार स्मॉग से स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों और सड़क हादसों के मद्देनजर स्कूल बंद करने पर भी विचार कर रही है. पंजाब में स्मॉग से जुड़ी घटनाओं में पिछले हफ्ते कम से कम 17 लोग मारे गए हैं. अस्पतालों में मरीजों की तादाद बढ़ती जा रही है. इनमें बच्चों और बुजुर्गों की तादाद सबसे ज्यादा है.
हेल्थ एक्सपर्ट्स ने लोगों को जरूरत पड़ने पर ही बाहर निकलने और मास्क और चश्मे पहनने की सलाह दी है. दिल और सांस के मरीजों को ठंडे पेय पदार्थों से दूर रहे और भाप लेते रहने की सलाह दी जा रही है.