फैक्‍टशीट जारी कर कंपनी ने किया लोगों को अलर्ट, इन लोगों को नहीं लगवानी है कोरोना की वैक्सीन..

0
81

देश में कोरोना का संकट तेज़ी से बढ़ रहा है। ऐसे में अब केंद्र सरकार ने भी टीकाकरण अभियान में तेज़ी लाने की बात कही है। इस दौरान केंद्र ने टीकाकरण के तीसरे चरण का ऐलान कर दिया है। इस चरण में अब 18 साल से अधिक उम्र के लोगों कोरोना की वैक्सीन लगवा सकते हैं। हालांकि टीकाकरण अभियान में सरकार तेज़ी ला रही है। लेकिन अब भी कई लोग ऐसे हैं जो वैक्सीन लगवाने से कतरा रहे हैं। बहुत से लोग ऐसे हैं जो वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स से डर रहे हैं। जिसकी वजह से वह भी वैक्सीन नहीं लगवा रहे। इस डर को खत्म करने के लिए वैक्सीन निर्माता कंपनियों ने फैक्‍टशीट जारी की है। जिसमें बताया गया है कि किन लोगों को वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए।

फैक्‍टशीट के अनुसार जिन लोगों को इनग्रिडिएंट से एलर्जी है, वो ये वैक्सीन नहीं लगवाएं। कपंनी ने अपनी फैक्‍टशीट में कहा कि “अगर किसी को वैक्‍सीन की पहली डोज लेने के बाद तेज बुखार या घातक संक्रमण हो रहा है कि तो वैक्‍सीन नहीं लेनी चाहिए।” इसके साथ ही फैक्‍टशीट में गर्भवती महिलाओं को भी वैक्सीन न लगवाने की सलाह दी गई और कहा गया कि ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाएं भी वैक्सीन न लगवाएं। कंपनी के अनुसार अगर कोई महिला वैक्सीन लगवाना चाहती है तो वो अपने डॉक्टर की सलाह से वैक्सीन लगवा सकती है।

कोविशील्ड की फैक्टशीट में गर्भवती महिलाओं को लेकर कहा गया है कि “गर्भवती या ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलओं को फिलहाल वैक्सीन लेने से बचना चाहिए। अगर ये महिला वैक्‍सीन लगवाना ही चाहती है तो उन्‍हें हेल्थकेयर प्रोवाइडर से सलाह लेनी चाहिए। इसके साथ एलर्जी, बुखार होने या फिर अगर आपने कोई और वैक्‍सीन ली है तो भी इसकी जानकारी बतानी चाहिए।” इस दौरान कई लोग वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स से डर रहे हैं। ऐसे में कंपनी ने इसके साइड इफेक्ट्स के बारे में भी बताया। कंपनी के मुताबिक वैक्सीन लगवाने से केवल इंजेक्शन लगने वाली जगह पर सूजन, दर्द, लाल और खुजली होने जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इसके साथ ही हल्का बुखार, बेचैनी जैसे साधारण साइड इफेक्ट्स भी शामिल हैं।