दिल्ली में ऑक्सीजन डिमांड को लेकर घमासान, भाजपा के आरोपों के बाद बोले डॉ. रणदीप गुलेरिया, “मुझे नहीं लगता…”

0
63

कोरोना की दूसरी लहर से देश में हुई तबाही से हर कोई खौफजदा है। दूसरी लहर के बीच ऑक्सीजन की किल्लत के कारण कई लोगों ने अपनी जान गवाई। सबसे ज्यादा ऑक्सीजन की किल्लत दिल्ली में देखने को मिली। ऑक्सीजन की पूर्ति के लिए सुप्रीम कोर्ट में अब तक सुनवाई हो रही है। ऐसे में भाजपा और दिल्ली सरकार के बीच घमासान जारी है। बता दें कि इस दौरान भाजपा की ओर से दिल्ली सरकार पर गंभीर आरोप लगाया गया है। भाजपा का कहना है कि अंतरिम रिपोर्ट में केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) ने ऑक्सीजन की डिमांड 4 गुना बढ़ाकर बताई है।

बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट ने ऑक्सीजन डिमांड के लिए ऑक्सीजन ऑडिट कमेटी बनाई है। भाजपा के आरोपों के बाद ऑक्सीजन ऑडिट कमेटी के सदस्य और एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया के बयान से भाजपा में हड़कंप मच गया है। डॉ. रणदीप ने अपने बयान में कहा कि “मुझे नहीं लगता कि ऐसा कह सकते हैं कि दिल्ली ने अपनी ऑक्सीजन डिमांड 4 गुना बढ़ाकर बताई है।” वहीं दिल्ली सरकार का कहना है कि अभी तक ऑक्सीजन ऑडिट कमेटी द्वारा कोई भी रिपोर्ट जारी नहीं की गई है। भाजपा वाले अपने मुख्‍यालय में बैठकर रिपोर्ट बनाते हैं और उसे ऑक्‍सीजन ऑडिट रिपोर्ट बताते हैं।

इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री ने भी एक ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि “मेरा गुनाह- मैं अपने दो करोड़ लोगों की सांसो के लिए लड़ा, जब आप चुनावी रैली कर रहे थे, मैं रात भर जागकर ऑक्सीजन का इंतजाम कर रहा था, लोगों को ऑक्सीजन दिलाने के लिए मैं लड़ा, गिड़गिड़ाया। लोगों ने ऑक्सीजन की कमी से अपनों को खोया। उन्हें झूठा मत कहिए। उन्हें बहुत बुरा लग रहा है।” केजरीवाल के अलावा दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी बयान जारी किया। उन्होंने कहा कि “सुप्रीम कोर्ट ने ऑक्‍सीजन ऑडिट कमेटी बनाई है। हमने कमेटी के कई सदस्‍यों से बात‍ की है। उन्‍होंने कहा कि किसी रिपोर्ट पर अभी साइन ही नहीं किया गया है। साथ ही उन्‍होंने कहा कि ऑक्‍सीजन ऑडिट कमेटी के सदस्‍यों ने साइन किया हो या उसे अप्रूव किया गया हो, ऐसी कोई रिपोर्ट है तो सामने लेकर आएं।”