कोरोना की तीसरी लहर की आशंका, सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता, कहा “इस लहर में बच्चें संक्रमित होते हैं तो…”

0
59

भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने आतंक मचा रखा है। इस दौरान हर रोज लाखों लोग इस वायरस से संक्रमित हो रहे हैं और हर रोज हजारों लोगों की जान भी जा रही है। बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस की तीसरी लहर भी आएगी। इस बात का ज़िक्र सुप्रीम कोर्ट ने किया है। दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी के मुद्दे पर सुवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना की तीसरी लहर का जिक्र किया। इस दौरान कोर्ट ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर कम उम्र के लोगों पर असर करेगी। यानी बच्चों को इस लहर से काफी खतरा है।

इस मुद्दे पर बात करते हुए कोर्ट ने सरकार से तीसरे लहर के लिए तैयारी करने को कहा। जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि “मैंने अखबार में तीसरी लहर के बारे में पढ़ा है। वैज्ञानिक कह रहे हैं कि ये बच्चों को प्रभावित करेगी, जरूरी है कि जब हम तीसरी लहर की योजना बनाएं, तो इस आयु वर्ग का टीकाकरण पूरा हो जाए। हमें वैज्ञानिक और समेकित तरीके से योजना बनाने की जरूरत है।” उन्होंने कहा कि “कई वैज्ञानिकों की रिपोर्ट है कि थर्ड वेव शुरू हो सकता है। अगर बच्चे इनफेक्ट होते हैं तो मां-बाप कैसे क्या करेंगे, अस्पताल में रहेंगे या क्या करेंगे। क्या प्लान है, टीकाकरण किया जाना चाहिए, हमें इसके साथ निपटने की जरूरत है।”

इस दौरान उन्होंने केंद्र का साथ भी दिया। उन्होंने केंद्र को यकीन दिलाया की वह केंद्र के खिलाफ नहीं हैं और न ये कह रहे कि इस सबका जिम्मेदार केंद्र है। कोर्ट ने कहा कि “वैज्ञानिक ढंग से नियोजित ढंग से तीसरी लहर से निपटने की जरूरत है। आप महामारी के चरण 2 में हैं, दूसरे चरण में भी कई मापदंड हो सकते हैं, लेकिन अगर हम आज तैयार करते हैं, तो हम चरण 3 को संभाल सकेंगे।” गौरतलब हैं कि फिलहाल देश के हालात काफी ज्यादा खराब हैं।