भारत में भी पाया गया ब्रिटेन कोरोना का पहला मरीज़, ब्रिटेन फ्लाइट्स हुई सस्पेंड..

0
37

दुनिया भर में जहां कोरोना का संकट थोड़ा बहुत कम हुआ था। वहीं ब्रिटेन में इसका और भी ज़्यादा ख़तरनाक स्ट्रेन तैयार हो गया। कोरोनावायरस का ये नया रूप पहले वाले से भी ज़्यादा ख़तरनाक साबित हो रहा है। इस वायरस ने ब्रिटेन में कहर मचा रखा है। वैज्ञानिकों के मुताबिक ये वायरस पहले वाले से 70 प्रतिशत तक ज़्यादा संक्रामक है। खबर है कि यह वायरस अब भारत तक भी पहुंच चुका है। हाल ही ने ब्रिटेन से लौटे 6 नागरिकों में ये वायरस पाया गया है।

बता दें कि इस वायरस में सालभर के भीतर 23 बार म्यूटेशन हुआ इसी कारण वैज्ञानिक इस वायरस से डर रहे हैं। वायरस जब होट्स कोशिका के भीतर अपनी संख्या बढ़ाता है तो वायरस के स्वरूप में बदलाव होता है। इसी को म्यूटेशन कहते हैं। बता दें कि जब वायरस की कॉपीज बनती हैं तो उसमे कुछ न कुछ गड़बड़ हो जाती है। कोड ट्रांसफर करने में गलती होने के कारण नया वारयस पैदा होता है उसमें जेनेटिक कोड अपनी पूर्व पीढ़ी से अलग होता है।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के मुताबिक ये वायरस दक्षिणपूर्व ब्रिटेन में दिखा। जब यहां कोरोनावायरस के मामलों में तेज़ी आई तब वैज्ञानिकों की नजर इस पर गई। तब पता चला कि यह वायरस लोगों में सितंबर से मौजूद है। ये वायरस अब तेज़ी से और भी देशों में फैलता जा रहा है। इससे पहले खबर थी कि फ्रांस में भी इससे संक्रमित मरीज़ पाया गया है। जिसको देखते हुए अब सभी देश और भी ज़्यादा अलर्ट हो चुके हैं। भारत सरकार ने सोमवार को ब्रिटेन के लिए फ्लाइट्स सस्पेंड कर दीं, जो फिलहाल साल के अंत तक जारी रहेगा। अलग-अलग राज्य भी इस नए रूप को देखते हुए अलग कदम उठा रहे हैं।