अगर आप भी करते हैं पब्लिक प्लेस में फोन चार्ज तो हो जाएं सावधान, हो सकता है अकाउंट खाली…

0
12

दुनिया में साइबर क्राइम काफी ज्यादा बढ़ चुका है। यहां देखों वहां कोई न कोई मामला देखने को मिल ही जाता है। आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने वाले हैं जिससे आप ठगी से बच सकते हैं। जो बातें आज हम आपको बताने वाले हैं, उन बातों को ध्यान में रखते हुए आप ठगी से बच सकते हैं। अपने अक्सर लोगों को पब्लिक प्लेस पर यूएसबी पोर्ट से फोन चार्ज करते हुए देखा होगा। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो सावधान हो जाएं। ऐसा करने से पल भर में ही आपका अकाउंट खाली हो सकता है। ऐसे बहुत से केस सामने आ चुके हैं जिसमें रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट या किसी दूसरे पब्लिक प्लेस पर यूएसबी पोर्ट से फोन चार्ज करने वालों के साथ साइबर ठगी हुई है।

बता दें कि इस तरह के फ्रॉड को ‘जूस जैकिंग’ कहा जाता है। जूस जैकिंग एक तरह का यूएसबी चार्जर घोटाला है। यूएसबी पोर्ट से फोन चार्ज करने पर हैकर्स आसानी से आपके फोन ने मैलवेयर इंस्टॉल कर सकते हैं। एक बार जब मोबाइल में मैलवेयर इंस्टॉल हो जाता है तो आपका डाटा बड़े ही आसानी से किसी दूसरे शख्स के पास पहुंच सकता है। डेटा चोरी करने के साथ ही वो आपके पर्सनल डिटेल्स, बैंक अकाउंट, पासवर्ड भी पता कर सकते हैं।

अब सवाल आता है कि किस तरह से जूस जैकिंग से बचा जा सकता है? तो आपको बता दें कि पब्लिक प्लेस पर लगे चार्जिंग स्टेशनों या USB पोर्ट से मोबाइल को कभी चार्ज न करें। हमेशा फोन को चार्ज करने के लिए पावर बैंक का इस्तेमाल करें। मुफ्त के चक्कर में किसी भी अनजान वाई-फाई से कनेक्ट न हों। इससे मोबाइल आसानी से हैक हो सकता है। इसके अलावा किसी और के लैपटॉप या कम्प्यूटर केबल से भी अपना मोबाइल चार्ज न करें। इंटरनेट के जरिए कोई फाइल जैसे- गाना या फिल्म किसी सही वेबसाइट से ही डाउनलोड करें।