इस राज्य के 21 लाख किसानों को नहीं मिलेगी पीएम किसान की 12वीं किस्त

0
15

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना को किसानों के सम्मान की योजना भी कहते हैं. इस योजना के तहत हर साल किसानों के बैंक खाते में 6000 रुपये की सम्मान राशि ट्रांसफर की जाती है. अभी तक किसानों के खातों में दो-दो हजार रुपये की 11 किस्तें ट्रांसफर की जा चुकी है और किसानों को 12वीं का बेसब्री से इंतजार है. इसी बीच उत्तर प्रदेश से करीब 21 लाख अपात्र किसानों को पीएम किसान योजना से बाहर कर दिया गया है. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो अब इन अपात्र किसानों को 12वीं किस्त का लाभ नहीं दिया जाएगा.

ये है पूरा मामला

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत करीब 11 करोड़ से ज्यादा किसानों को आर्थिक अनुदान दिया जाता रहा है. इस योजना के तहत 11 वीं किस्त ट्रांसफर होने के बाद धोखाधड़ी के मामले सामने आए हैं, जिसके तहत कई किसानों ने गलत तरीके से आर्थिक अनुदान का लाभ लिया है, जिसके खिलाफ कार्यवाही करते हुये लाखों किसानों को राशि वापस लौटाने के लिये नोटिस भी भेजे  गये हैं.

21 लाख किसान

इस मामले में उत्तर प्रदेश राज्य में भी जांच पड़ताल की गई, जिसमें सामने आया कि करीब 21 लाख किसानों ने दो-दो हजार रुपये का लुफ्त उठाया है. इन किसानों में कुछ एक ही परिवार के सदस्य, पति-पत्नी और मृत लोगों का नाम भी शामिल है. इस मामले की जांच के बाद अपात्र किसानों को नोटिस भी भेजा गया, जिसके चलते ज्यादातर किसानों ने किस्त वापस लौटा दी हैं. जिन किसानों ने अभी तक पीएम किसान का पैसा वापस नहीं किया है, उन्हें अंतिम चेतावनी देकर बैंक खातों को सीज कर दिया गया है.

कब तक आएगी पीएम किसान की लिस्ट

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत अभी तक किसानों के खातों में 11 किस्तें ट्रांसफर की जा चुकी है. रिपोर्ट की मानें तो सितंबर 2022 से अक्टूबर 2022 के बीच PM किसान की 12वीं के ट्रांसफर  की जानी है. इसके लिए किसानों को केवाईसी करवाने का भी निर्देश दिए गए थे. इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद लाखों किसान पीएम किसान की लाभार्थी सूची से बाहर हो गए हैं. वहीं उत्तर प्रदेश राज्य में भी किसानों को केवाईसी के साथ-साथ भूमि अभिलेख और ऑनसाइट सत्यापन करवाने के निर्देश मिले थे.

ऐसे लौटायें PM किसान का पैसा 

पीएम किसान लाभार्थियों की लिस्ट जारी करने के बाद किसानों को अपना नाम चैक करने की हिदायत दी जा रही है, ताकि किसान पता तला सके कि उन्हें पैसा वापस करना है या वो लाभाार्थी बने रहेंगे. वहीं अपात्र किसानों को जल्द से जल्द पैसा वापस करने के लिये भी कहा जा रहा है. अपात्र किसान चाहें तो भारत सरकार के पोर्टल http://bharatkosh.gov.in/ पर कम समय में पैसा लौटा सकते हैं. यदि खुद पैसा वापस नहीं कर पा रहे हैं तो बैंक अधिकारियों की भी सहायता ले सकते हैं.

नहीं मिलेगा योजना का लाभ
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत करोड़ों किसानों को योजना का लाभ दिया जाता है. इसके बावजूद कई किसान ऐसे भी हैं, जो आज तक पीएम किसान योजना की आर्थिक सहायता से वंचित है. इन किसानों में समृद्ध किसान शामिल है, जैसे- सरकारी नौकरी करने वाले किसान, प्राइवेट नौकरी करने वाले किसान, इनकम टैक्स भरने वाले किसान, संवैधानिक पदाधिकारी किसान या फिर पेंशनधारक भी इस योजना का लाभ नहीं ले सकते.