उत्तराखंड: एक साथ तीन पीठों के शंकराचार्यों का महासंगम, ये है पूरा कार्यक्रम

0
4

चमोली: ज्योतिर्मठ के शंकराचार्य के पद पर आसीन होने के बाद पहली बार बद्रीनाथ-जोशीमठ पहुंच रहे अविमुक्तेश्वरानंद महाराज के अभिनंदन की जोरदार तैयारियां चल रही हैं। इस अवसर पर रविग्राम में 17 अक्टूवर को ज्योतिष्पीठ से शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरा नंद सरस्वती महाराज, द्वारका से शंकराचार्य सदानन्द सरस्वती महाराज व श्रृगेरी से विधुशेखर भारती महाराज तीनों पीठों के शंकराचार्याे का महा समागम होगा। महासंगम में तीनों पीठों के शंकराचार्य पहुंच रहे हैं।

ज्योतिर्मठ के प्रभारी ब्रहमचारी मुकुदानन्द ने बताया कि महा समागम के दौरान तीन पीठों के शंकराचार्य के दर्शन करने का पुण्य लाभ क्षेत्र के लोगों को मिलेगा। उन्होंने बताया कि ज्योतिष्पीठ से शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरा नंद सरस्वती महाराज, द्वारका से शंकराचार्य सदानन्द सरस्वती महाराज व श्रृगेरी से विधुशेखर भारती महाराज 15 अक्टूवर को बदरीकाश्रम पहुंच रहे है। 16 अक्टूवर को तीनों शंकराचार्य केदारनाथ के दर्शन करने के बाद ज्योतिर्मठ पहुचगे ओर 17 अक्टूवर को नगर में विशाल शोभा यात्रा निकाली जायेगी।

शोभायात्रा में गढ़वाल की संस्कृति ढोल, वेदपाठ, वेदपाठ आचार्याें के साथ शोभा यात्रा रविग्राम मे स्थित जेपी मैदान मे पहुंचेगी, जहां पर महासम्मेलन का आयोजन किया जायेगा। महासम्मेलन में गढ़रत्न नरेन्द्र सिह नेगी जी गणेश वंदना प्रस्तुत करेंगे। साथ ही गढ़वाली मांगल गीत को प्रस्तुत करने वाली नंदा सती मांगल गीत की प्रस्तुति देगी । कार्यक्रम में विश्व धरोहर रम्माण की प्रस्तुति भी आयोजित की जायेगी।