शादी में शामिल होने वाले लोगों की संख्या को लेकर पंजाब की जनता ने निकाला अनोखा तो’ड़..

0
229

दुनियां भर में कोरो’ना वाय’रस के संक्रम’ण को देखते हुए भारत के प्रधान मंत्री की ओर से लोगों के बचाव के लिए 25 मार्च से लॉ’क डा’उन जारी कर दिया गया था और यह लॉ’क डा’उन अभ चौथे इस्थान पर है। जिसके मुताबिक अब कुछ छूट भी मिल गयी है जेसे की अब अगर किसी की शादी है तो इस लॉ’क डा’उन में तो उसको मेहमानों की संखिया को ध्यान में रखना होगा जैसे कि लॉ’क डा’उन में शादी के दौरान मेहमानों की संखियाँ 50 लोगों से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए और इसके साथ साथ सोशल डिस्टेंसिंग (distancing) का भी सही से पालन करना होगा। हाला कि पंजाब के लोगों ने इसका भी एक तोड़ निकाल लिया ये जानते हुए भी के इससे इन्ही का नुक’सान है लेकिन ये सभ जानते हुए भी इसके लिए ज़िला प्रशासन से अनुमति तक मांगी जारही है।

पंजाब के लोगों ने ज़िला प्रशासन से ये अनुमती मांगी की शादी में वो अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को अलग अलग शिफ्ट में बुला सके जिससे सब लोग बारी बारी से शादी अटेंड कर सके और जिस्से लॉ’क डा’उन का निय’म भी ना टूटे। जैसे कि जो लोग वेजेटेरियन है उनको शाम में 4 से लेकर 6 बजे के बीच में बुलाया जाए और जो लोग नॉनवेज खाने वाले है उनको 6 बजे से रात 8 बजे के बीच में बुलाया जाए और उन लोगों से कहे कि वो शादी में 45 मिंट से ज़्यादा देर ना रुके जिससे और भी लोग शादी में जुड़ सके।

पंजाब में इस मामले को लेकर अलग अलग जगहों से अब तक 11 आवेदन आ चूके है जिससे उन लोगों के दो फायदे हैं जेसे कि पहला तो यह है कि शादि की वजह से होने वाली भीड़ से अब बच जयेंगे और दूसरा ये की सब लोग शादी में शामिल हो पाएंगे। पता चला है कि इस को लेकर बहुत सारे आवेदन आचुके है जिसकी वजह से प्रशासन इस पर गोर कर रही है। जालंधर डीसी वरिंदर कुमार शर्मा ने कहा कि “लॉ’कडा’उन के निय’मों को ध्यान में रखते हुए शादी की छूट दी जाएगी। समारोह में 50 से ज्यादा लोगों को इकट्ठा नहीं होने दिया जाएगा। इस नि’यम का क’ड़ाई से पालन करने के लिए सख्त निर्देश दिए गए हैं।”