SC ने उद्धव ठाकरे के इस्तीफे पर उठाए सवाल, पूर्व CM बोले-गद्दार लोगों के साथ सरकार कैसे चलाता?

0
124

मुंबई: शिवसेना मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि देश में लोकतंत्र की हत्या हो रही है. लोकतंत्र की रक्षा के लिए ही बिहार से नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव यहां आए हैं और हम सब एक साथ हैं. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय बहुत महत्वपूर्ण है. इसमें हर किसी के राजनीति पर सवाल उठाया गया है. इसमें राज्यपाल की भूमिका पर भी सवाल उठाया गया है. दिल्ली और महाराष्ट्र दोनों के राज्यपालों की भूमिका पर संदेह जताया गया है.

उद्धव ठाकरे गुरुवार को नीतीश कुमार और तेजस्वी के साथ मीडिया को संबोधित कर रहे थे. कहा कि आज लड़ाई की शुरुआत हो चुकी है. उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने माना है कि यदि वह इस्तीफा नहीं दिए होते तो फिर से सीएम बन जाते. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने फ्लोर टेस्ट से पहले इस्तीफे पर सवाल उठाया था. लेकिन उन्होंने साफ कर दिया कि गद्दार लोगों के साथ मिलकर सरकार कैसे चलाएं. उन्होंने कहा कि वह यह लड़ाई अपने लिए नहीं, बल्कि देश और महाराष्ट्र की जनता के लिए लड़ रहे हैं. यह लड़ाई आगे भी जारी रहेगी.

इसी क्रम में नीतीश कुमार ने कहा कि उद्धव ठाकरे के साथ जो अन्याय हुआ था उस पर आज फैसला आ गया है. उन्होंने कहा कि अब हम लोग चाहते हैं कि देश की ज्यादा से ज्यादा पार्टियां एकत्रित हों और लोकतंत्र को बंधक बनाने वालों के खिलाफ अभियान चलाएं. इस मौके पर नीतीश कुमार ने कहा कि मीडिया भी इन्हीं लोगों के कब्जे में है. नीतीश कुमार ने कहा कि इस समय देश में कोई काम नहीं हो रहा है. देश को आगे बढ़ाने की कोशिश होनी चाहिए, लेकिन हो क्या रहा है, यह सबके सामने है. वह लोग चाहते हैं कि जनता जाति और धर्म के नाम पर लड़ती मरती रहे. इस तरह की कोशिशें लगातार हो रही हैं.