बिना मोबाइल फोन के नेता, फिर भी लोगों की पहली पसंद

0
84

कर्नाटक : समाजवादी झुकाव वाले एक जन नेता के रूप में देखे जाने वाले सिद्धारमैया अपनी धर्मनिरपेक्ष साख से समझौता नहीं करते हैं. कर्नाटक में कांग्रेस की शानदार वापसी के चेहरे के रूप में सिद्धारमैया के व्यक्तित्व के कई पहलू हैं. वह एक ऐसा नेता हैं, जो अपने साथ एक मोबाइल फोन तक नहीं रखते हैं. चाहे बड़े से बड़ा कोई भी नेता क्यों न हो, अगर किसी को सिद्धारमैया से बात करनी है, तो उनके पीए के माध्यम से संपर्क करना होगा. वह गरीबों को अपनी राजनीति के केंद्र में रखते हैं. सिद्धारमैया एक बेटे की मौत का शोक मना रहे पिता भी हैं. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि वह एक चतुर राजनेता हैं, जो जनता की ताकत को जानते हैं और समझते भी हैं.

सिद्धारमैया ने अक्सर एक अलग राज्य ध्वज की वकालत की है. उन्होंने व्यक्तिगत रूप से आदेश दिया है कि सिटी सबवे पर हिंदी में संकेतों को हटा दिया जाए. इन संकेतों को कन्नड़ में बदल दिया जाए. सिद्धारमैया ने कांग्रेस को एक मजबूत क्षेत्रीय पहचान दी, जो बीजेपी-आरएसएस को वैचारिक मोर्चे और जाति के मुद्दों पर भी टक्कर दे सके.
सिद्धारमैया की शख्सियत इस बात से भी समझी जा सकती है कि साल 2013 में उन्होंने मल्लिकार्जुन खरगे को भी बाहर का रास्ता दिखा दिया था. खरगे अब ऑल इंडिया कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष हैं. इस बार उन्होंने डीके शिवकुमार पर जीत हासिल की, जिन्हें वोक्कालिगा समुदाय को मजबूत करने, पार्टी के लिए संसाधन जुटाने और कर्नाटक में इस जीत के अहम कारक माना जाता है. इस जीत ने 2024 के चुनाव से पहले कांग्रेस में एक नई ऊर्जा का संचार किया है. 

 

हालांकि, नए सीएम के तौर पर सिद्धारमैया के सामने कई चुनौतियां हैं. उन्हें पार्टी द्वारा किए गए वादों को पूरा करने और पार्टी में अन्य नेताओं की आकांक्षाओं को पूरा करने की जरूरत है. कांग्रेस पार्टी के लिए बड़ी संख्या में मतदान करने वाले ग्रामीण जनता के कल्याण के लिए कार्यक्रम चलाने के अलावा, उन्हें उद्योग के विकास को संतुलित करने, बेंगलुरु और राज्य के बढ़ते शहरीकरण के लिए एक खाका भी तैयार करना होगा.

सिद्धारमैया बीजेपी और आरएसएस के तीखे आलोचक भी रहे हैं. वह अपने मन की बात कहने के लिए जाने जाते हैं. यही वजह है कि उन्होंने हमेशा सीएम बनने की अपनी महत्वाकांक्षा के बारे में बात की है. वित्त मंत्री के रूप में 13 राज्यों के बजट पेश करने वाले उनके करीबी कहते हैं कि प्रशासन के अलावा वित्त ही उनकी सबसे बड़ी ताकत है. सिद्धारमैया पहली बार 1983 में लोकदल पार्टी के टिकट पर चामुंडेश्वरी से विधायक बने. इस निर्वाचन क्षेत्र से वह पांच बार जीते और तीन बार हार चुके हैं. उन्होंने चामुंडेश्वरी सीट पर वापस जाने से पहले अपने छोटे बेटे के लिए 2008 में बनाए गए वरुणा सीट को खाली कर दिया था. इस बार उन्होंने वरुणा सीट से जीत हासिल की.

पिछले साल विधानसभा चुनाव-2023 को लेकर कांग्रेस पार्टी के अभियान पर कोई स्पष्टता नहीं थी. उसी साल अगस्त में सिद्धारमैया ने मध्य कर्नाटक के दावणगेरे में अपना 75वां जन्मदिन मनाया. इसे सिद्धमहोत्सव नाम दिया गया. इस कार्यक्रम में 6 लाख से ज्यादा लोग शामिल हुए. इनमें से कम से कम 100 लोग अपनी सीट घेरने के लिए कार्यक्रम शुरू होने के पहले रातभर खुले मैदान में सोते रहे. राहुल गांधी ने विशेष रूप से इस कार्यक्रम में शामिल होने की बात कही थी, लेकिन शहर भर में भीड़ के कारण उन्हें भी कार्यक्रम स्थल पर पहुंचने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा.