नेतन्याहू ने कहा : हमास को धरती से मिटा देंगे, सारे आतंकी हमारे लिए मुर्दा

0
69

हमासे के हमले के बाद से इजरायल बदला लेते हुए लगातार रॉकेट दाग रहा है। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने सार्वजनिक रूप से हमास को कुचलने और नष्ट करने की कसम खाई है। नेतन्याहू ने कहा है कि हमास का प्रत्येक सदस्य उनके लिए एक मरा हुआ व्यक्ति है। इजरायली पीएम ने बीती रात टेलीविजन पर अपने संबोधन में कहा कि हमास के आतंकियों ने युवा महिलाओं के साथ बलात्कार किया, युवा लड़कों और लड़कियों को गोली मारी।

नेतन्याहू ने कहा कि हमने लड़कों और लड़कियों को बंधे हुए देखा, जिनके सिर में गोली मारी गई थी। पुरुषों और महिलाओं को जिंदा जलाया गया। अब तक की लड़ाई में इजरायल और हमास दोनों के कम से कम 2,300 लोग मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि हमास की ये हरकत अब माफ करने लायक नहीं है, अब कोई जिंदा नहीं बचेगा।

नेतन्याहू ने हमास से लड़ाई बढ़ने के बाद वरिष्ठ विपक्षी नेता बेनी गैंट्ज के साथ हाथ मिलाकर एक वॉर कैबिनेट (युद्धकालीन कैबिनेट) का गठन किया है। ये केवल युद्ध पर ध्यान केंद्रित करने के लिए गठित की गई है। इजरायल के रक्षा मंत्री योव गैलेंट भी इस विशेष कैबिनेट का हिस्सा हैं। युद्ध छिड़ने के बाद पहली बार ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी और सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने बयान दिया है। बता दें कि इजरायल ने ईरान पर हमास का समर्थन करने का आरोप लगाया है, वहीं सऊदी ने ईरान से इजरायल-फलस्तीन युद्ध को खत्म करने की चर्चा की।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी इजरायल पर हमास के हमलों को लेकर हमास पर हमला बोला है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने यहूदी नेताओं से बात करने के बाद कहा कि युद्ध के बाद यहूदियों के लिए सबसे खराब दिन आए हैं और मैं चुप नहीं रहने वाला हूं। बाइडन ने कहा कि हम इजरायल में बंधक बने लोगों को निकालने पर काम कर रहे हैं।

इजरायल युद्ध के मद्देनजर अमेरिका ने अपने नागरिकों को गाजा की यात्रा न करने और इजरायल जाने पर भी पुनर्विचार करने की सलाह दी है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि वो इजरायल के आसपास के देशों में अमेरिकी नागरिकों को सहायता दिलवाने की कोशिश कर रहा है। लेबनान में बसे ईरान समर्थित हिजबुल्लाह समूह ने कहा कि उसने इजरायल पर कई मिसाइलें दागीं, जिसका इजरायल की सेना ने जवाबी कार्रवाई से जवाब दिया है। लेबनान से इजरायली हवाई क्षेत्र में कई बार रॉकेट हमले हुए, जिसके बाद उत्तरी इजरायल अलर्ट पर है।

अमेरिका के अनुसार, गाजा से 250,000 से अधिक लोग अपने घर छोड़कर भाग गए हैं। इजरायल ने गाजा में भोजन, ईंधन, बिजली और दवा की आपूर्ति बंद कर दी है और सीमा पार के पास हवाई हमले के बाद से सारी सुविधाए खत्म कर दी गई है। निजी अस्पताल ही जनरेटर से काम चला रहे हैं।