मकान पर नगर निगम ने लगाई सील, गुस्से में महिला ने खुद को लगाई आग

0
34

छत्तीसगढ़ : राजनांदगांव शहर के लखोली क्षेत्र में एक महिला के खुद के ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगाकर आत्मदाह करने की कोशिश की. दरअसल महिला प्रधानमंत्री आवास योजना से बने मकान आवंटन की मांग कर रही थी. घटना के बाद महिला को गंभीर अवस्था में मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है. वहीं पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है.

दरअसल राजनांदगांव शहर के लखोली क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत बने अवास में अनाधिकृत रूप से निवास कर रहे लोगों को नगर निगम ने मकान खाली करने नोटिस जारी किया. इतना ही नहीं बुधवार को कुछ मकानों को सील करने की कार्रवाई भी की गई. वहीं गुरुवार को इस मकान में आवंटन से पहले अपने बच्चों के साथ निवास कर रही तलाकशुदा महिला यासमीन मेमन ने मकान आवंटन नहीं होने से आक्रोशित होते हुए स्वयं पर पेट्रोल छिड़ककर आत्मदाह करने का प्रयास किया गया. घटना के बाद महिला गंभीर अवस्था में मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है. वहीं इस घटना से आसपास के लोग सक्ते में आ गए और नगर निगम के खिलाफ उनका आक्रोश भी दिखा.

इस पूरे मामले में राजनांदगांव पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर का कहना है कि, नोटिस तामिली के लिए नगर निगम और प्रशासन की टीम गई हुई थी. इसी दौरान यासमीन मेमन ने अचानक अपने आप को आग लगा ली. उसे उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है.पुलिस अधीक्षक ने कहा कि जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी.

शहर लखोली क्षेत्र में बने प्रधानमंत्री आवास योजना में मकान पाने की चाहत लिए यासमीन मेमन ने भी आवश्यक दस्तावेज नगर निगम में जमा कराए थे और मकान आवंटन की मांग की थी. वहीं निगम के अधिकारियों का कहना है कि झुग्गी बस्तियों में निवासरत लोगों के व्यवस्थापन के लिए इन मकानों का आवंटन नगर निगम द्वारा किया जाना था.इसके चलते उसे मकान आवंटित नहीं किया गया था.यासमीन मेमन अनाधिकृत रूप से इस आवास में निवास कर रही थीं.इस मामले में नगर निगम प्रधानमंत्री आवास योजना के नोडल अधिकारी यूके रामटेके का कहना है कि यासमीन मेमन को पेंड्री क्षेत्र में आवास का आवंटन किया जा चुका है, लेकिन वो लगभग सात महीने से अवैध रूप से लखोली क्षेत्र के आवास में रह रही थीं.

राजनांदगांव शहर के लखोली क्षेत्र में झुग्गी बस्तियों में निवासरत लोगों के व्यवस्थापन के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकानों का निर्माण किया गया है. इस आवास योजना में आवंटन से पहले ही कई परिवारों के लोग अनाधिकृत तरीके से यहां निवास करने लगे. इसके बाद इन मकानों को खाली कराने के लिए नगर निगम द्वारा अवैध रूप से यहां निवास कर रहे लोगों को नोटिस जारी किया गया और 28 दिसंबर तक मकान खाली करने कहा गया था.जब  28 दिसंबर तक भी लोगों ने मकान खाली नहीं किया, तो अब नगर निगम ने कब्जा किए हुए इन मकानों को सील कर दिया है.