छात्रों की याचिका पर सुनवाई करने को तैयार SC, 10वीं-12वीं की…

0
22

कोरोना वायरस के कहर के कारण देश में लॉकडॉउन लगाया गया था। जिसके बाद से देश में ज्यादातर काम डिजिटल माध्यम से किए जाने लगे। ऐसे में बच्चों की शिक्षा भी ऑनलाइन होने लगी। लेकिन अब जब कोरोना का कहर कम हो चुका है तो अब बच्चों की परीक्षा ऑफलाइन करवाने की तैयारी की जा रही है। लेकिन अभी बच्चे इसके लिए तैयार नहीं हैं। जिसके चलते 10 वीं और 12 वीं परीक्षा ऑफलाइन कराने के फैसले को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है। इस याचिका में CBSE और ICSE द्वारा प्रस्तावित 10 वीं और 12 वीं परीक्षा ऑनलाइन करवाए जाने की मांग की जा रही है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट अब इस याचिका पर सुनवाई करने को तैयार है। ये याचिका 15 राज्यों के छात्रों द्वारा दायर की गई है। याचिका में कहा गया है कि “चूंकि कोविड के कारण शारीरिक तौर पर कक्षाएं नहीं हुई हैं, इसलिए ऑफलाइन परीक्षाओं की जगह ऑनलाइन परीक्षा हो।” छात्रों की इस अर्जी पर CJI ने हामी भर दी है और वह सुनवाई करने को तैयार हैं। CJI जस्टिस एन वी रमना ने कहा है कि इस मामले की सुनवाई जस्टिस ए एम खानविलकर की बेंच करेगी।

जस्टिस एन वी रमना ने कहा है कि “मामले को न्यायमूर्ति एएम खानविलकर की पीठ के समक्ष जाने दें। जस्टिस खानविलकर ने इससे पहले पिछले साल बोर्ड परीक्षाओं के संबंध में याचिकाओं पर सुनवाई की थी।” अगर बात करें कोरोना वायरस की तो देश में अब कोरोना वायरस के मामले पहले से काफी कम हो गए हैं। बीते 24 घंटों में देश भर में कोरोना के 16 हजार के करीब मामले सामने आए हैं। वहीं, इस दौरान 206 लोगों की वायरस से मौत भी हुई।