भूमाता ब्रिगेड के मार्च को लेकर हाजी अली के चारों ओर घेराबंदी

0
120

शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं को प्रवेश दिलाने के बाद भूमाता ब्रिगेड की अध्यक्ष तृप्ति‍ देसाई ने अब मुंबई की हाजी अली दरगाह का रुख किया है. महिलाओं को इबादत का समान हक दिलाने के लिए तृप्ति गुरुवार को हाजी अली जाने वाली हैं. उनके इस कदम के विरोध में एमआईएम और दूसरे धार्मिक संगठन एक साथ हो गए हैं, वहीं टकराव की स्थिति के एहतियातन पुलिस ने दरगाह के चारों ओर बैरिकेडिंग कर दी है.
दूसरी ओर, बीएसपी प्रमुख मायावती ने मामले को धर्म से संबंधि‍त होने के कारण फैसला धर्मगुरुओं पर छोड़ने की बात कही है. उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि हर धर्म के अपने रिवाज हैं और उसमें हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए. यह मामला उस धर्म के धर्मगुरुओं के ऊपर छोड़ देना चाहिए. महिलाओं को बराबरी तो मिलनी चाहिए, लेकिन उसका ठीक तरीका होना चाहिए.’
तृप्ति देसाई ने मामले में बॉलीवुड की तीनों सुपरस्टार खान सलामन, शाहरुख और आमि‍र खान से अपील की है कि वो इस मामले में अपना रुख साफ करें. तृप्ति‍ ने कहा, ‘मुझे लगता है कि शाहरुख, सलमान खान और आमिर खान को भी इस मामले में अपना रुख साफ करना चाहिए. इससे समाज पर बड़ा असर पड़ेगा. ऐसा करने से उनके फैंस भी हमारी बराबरी की लड़ाई में साथ जुड़ेंगे.’
गौरतलब है‍ कि बीते कई महीनों के संघर्ष के बाद भूमाता ब्रिगेड के नेतृत्व में महाराष्ट्र के तीन मंदिरों शनि शिंगणापुर, त्र्यंबकेश्वर मंदिर और कोल्हापुर के महालक्ष्मी मंदिर के गर्भ गृह में महिलाओं प्रवेश मिल पाया है. जबकि हाजी दरगाह की मजार पर महिलाओं के साथ होने वाले भेदभाव के खिलाफ प्रदर्शन 28 अप्रैल को प्रदर्शन को लेकर वह पहले ही ऐलान कर चुकी हैं.
दूसरी ओर, एमआईएम नेता रफत हुसैन का कहना है‍ कि अगर तृप्ति‍ देसाई दरगाह में जबरन घुसने की कोशि‍श करती हैं तो उनके ऊपर काली स्याही फेंकी जाएगी.
हुसैन ने कहा, ‘हमारे धर्म के खिलाफ जाएंगे तो हम कालिख 100 फीसदी पोतेंगे. तृप्ति देसाई कानून हाथ में ले सकती हैं तो हम क्यों नहीं?’ रफत हुसैन ने आगे कहा कि तृप्ति मुस्लिम औरतों को भड़काने की कोशिश कर रही हैं.
इससे पहले शिवसेना नेता हाजी अराफात तृप्ति को चप्पल से पीटने की धमकी दे चुके हैं. शिवसेना और एमआईएम के अलावा इस्लामिक सगंठन आवाम विकास पार्टी की खातून ब्रिगेड ने भी ऐलान किया है कि वो किसी भी हाल में इस्लामिक परंपरा टूटने नहीं देंगे. गुरुवार को खातून ब्रिगेड की करीब 200 महिलाएं हाजी अली के बाहर ह्यूमन चैन बनाकर तृप्ति देसाई को रोकेंगी.