फ्रेंच फ्राइज खाते हैं तो रहें सावधान, रिसर्च में हुआ ये खुलासा

0
72

मूवी देखते हुए या किताब पढ़ते हुए या फिर दोस्तों के साथ गपशप करते हुए फ्रेंच फ्राइज हर किसी का फेवरेट टाइम पास फूड है। लेकिन, अब इसी डिश को लेकर एक नई स्टडी में कुछ खुलासा हुआ है, जो आपकी चिंता बढ़ा देगी। तले हुए, चिकने और स्टार्चयुक्त फ्रेंच फ्राइज आपके मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। जी हां, आप सही पढ़ रहे हैं।

चीन में हुए एक शोध में पाया गया है कि तले हुए खाद्य पदार्थों का लगातार सेवन, विशेष रूप से तले हुए आलू, लोगों को शारीरिक और मानसिक रूप से अस्वस्थ्य बना सकते हैं। जो लोग ऐसे फूड्स का सेवन नहीं करते उनकी तुलना में, जो लोग ऐसी चीजों को खाना पसंद करते हुए उनमें एंग्जाइटी की समस्या 12% और अवसाद का जोखिम 7% तक अधिक होता है।

हालांकि, अध्ययन करने वाले विशेषज्ञों ने कहा कि परिणाम प्रारंभिक हैं और यह जरूरी नहीं है कि तले हुए फूड आइटम्स मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों का कारण हों या जो लोग अवसाद या चिंता के लक्षणों का अनुभव कर रहे थे, वे तले हुए खाद्य पदार्थों से जुड़े हों। अध्ययन में यह भी पाया गया कि नियमित रूप से एक से अधिक तले हुए भोजन का सेवन करने वाले प्रतिभागियों में कम उम्र के पुरुषों के होने की संख्या अधिक थी।

शोध के अनुसार, मानसिक स्वास्थ्य के लिए तले हुए भोजन की खपत को कम करने पर जोर देना है। लेकिन इसके निष्कर्षों को लेकर अब भी कुछ संशय है। विशेषज्ञों का कहना है कि चूंकि शोध के परिणाम प्रारंभिक हैं, इसलिए अभी यह स्पष्ट नहीं किया जा सका है कि तले हुए खाद्य पदार्थ मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों को बढ़ाते हैं या मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के कारण लोग तले हुए खाद्य पदार्थों की ओर रुख करते हैं।

आसान भाषा में समझाएं तो, ‘लोग तली-भुनी चीजों की ओर इसलिए आकर्षित होते हैं क्योंकि वे चिंतित या उदास हैं या फिर वे तली-भुनी चीजों का अधिक सेवन करते हैं इसलिए चिंता या अवसाद से जूझ रहे हैं’ इसपर पूरी तरह से कोई निष्कर्ष देना अभी जल्दबाजी होगी। इस शोध में 11.3 वर्षों से अधिक की अवधि में 140,728 लोगों का मूल्यांकन किया गया है। पहले दो वर्षों के भीतर अवसाद से निदान किए गए प्रतिभागियों को बाहर करने के बाद, चिंता के कुल 8,294 मामले और अवसाद के 12,735 मामले उन लोगों में पाए गए, जो तले हुए भोजन का सेवन करते थे।