इस्तांबुल एयरपोर्ट पर फिदायीन हमले में 36 लोगों की मौत

0
182

इस्तांबुल: तुर्की के शहर इस्तांबुल के अतातुर्क अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर हुए बम धमाके में 36 लोगों की मौत हो गई है और तकरीबन 150 लोग घायल हो गए। तुर्की के पीएम के मुताबिक, शुरुआती जांच में पता चला है कि हमले में शामिल रहे तीनों आतंकियों ने खुद को धमाका कर उड़ा लिया।
अभी तक किसी संगठन ने हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है लेकिन इसके पीछे आईएस के आतंकियों पर शक़ जताया जा रहा है। तुर्की के राष्ट्रपति ने इस हमले के बाद आतंकवाद के ख़िलाफ़ एक अंतरराष्ट्रीय मुहिम शुरू करने की अपील की है। तुर्की में जनवरी से अब तक 6 बड़े आतंकी हमले हुए हैं जिसमें आम लोगों के साथ साथ सैनिकों को भी निशाना बनाया गया है। हालिया जानकारी के मुताबिक, मरने वालों में कोई भारतीय शामिल नहीं है।
तुर्की के प्रधानमंत्री बिनाली यिलदिरिम ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि विस्‍फोटों के बाद जो शुरुआती संकेत मिल रहे हैं, उससे लगता है कि इसके पीछे आतंकी संगठन आईएसआईएस का हाथ है। उन्‍होंने पत्रकारों से कहा कि ताजा सूचना के मुताबिक मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 36 हो गई है। इसके साथ ही उन्‍होंने जोड़ा कि जो सबूत मिल रहे हैं, वे इसके पीछे आईएसआईएस का हाथ होने की तरफ इशारा कर रहे हैं। न्याय मंत्री बेकिर बोजगाद ने कहा कि 147 लोग घायल हुए हैं।
इससे पहले तुर्की के सुरक्षा अधिकारियों के मुताबिक स्‍थानीय समयानुसार मंगलवार रात करीब 10 बजे एयरपोर्ट टर्मिनल के प्रवेश द्वार के निकट हमलावरों ने सुरक्षाकर्मियों पर गोलीबारी शुरू कर दी। इससे दोनों पक्षों के बीच गोलीबारी शुरू हो गई और उसके बाद एक-एक कर आत्‍मघाती बम विस्‍फोट में खुद को उड़ा दिया। हमले के बाद राष्‍ट्रपति रेकेप तैयप एर्डोगन ने आतंक के खिलाफ अंतरराष्‍ट्रीय ‘संयुक्‍त मुहिम’ का आहवान किया।
हमले की तात्‍कालिक रूप से किसी ने जिम्‍मेदारी नहीं ली है। घटना के बाद तुर्की के इस सबसे व्‍यस्‍त एयरपोर्ट से सभी उड़ानें रद्द कर दी गई हैं। इस्‍तांबुल के गवर्नर वासिप साहिन ने कहा कि तीन आत्‍मघाती हमलावरों ने इस घटना को अंजाम दिया।
एक प्रत्‍यक्षदर्शी ने सीएनएन तुर्क को बताया, ‘वह बहुत तेज धमाका था। हर आदमी दहशत में था और सभी चारों तरफ भागने लगे थे।’ सुरक्षाकर्मियों को यात्रियों को एयरपोर्ट से सुरक्षित निकालने का प्रबंध करते देखा गया। पुलिस ने घटनास्‍थल के चारों तरफ सुरक्षा चक्र का घेरा बना दिया है और सैकड़ों एंबुलेंस को वहां भेजा गया है।
पिछले एक साल में तुर्की में इस तरह के कई आत्‍मघाती बम विस्‍फोट हुए हैं। इनमें कुर्द विद्रोहियों और आतंकी संगठन आईएसआईएस का हाथ होने की आशंका जाहिर की जाती रही है। आईएसआईएस पर इसलिए भी शक की सुई घूम रही है क्‍योंकि इसी मार्च में ब्रुसेल्‍स एयरपोर्ट और शहर के मेट्रो स्‍टेशन पर भी कमोबेश उसने इसी तरह के हमले किए थे, जिनमें 32 लोगों की जानें गई थीं।