राहुल गांधी बताये 55 लाख से 9 करोड़ के मालिक कैसे हो गए

0
168

नई दिल्ली – लोकसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियों की ओर से एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। पहले कांग्रेस ने एक पत्रिका का हवाला देते हुए बीजेपी के कई दिग्गज नेताओं पर बीएस येदुरप्पा से करोड़ों रुपए की रिश्वत का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की। इसके एक दिन बाद शनिवार को बीजेपी की ओर से रविशंकर प्रसाद ने राहुल गांधी के इनकम पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी एक सांसद हैं, उनकी आय का स्त्रोत वेतन है, इसके अलावा कोई स्पष्ट्र स्रोत नहीं है। 2004 के चुनावी हलफनामे में उन्होंने अपनी संपत्ति 55,38,123 रुपए बताए थी। जबकि 2009 में उनकी संपत्ति बढ़कर 2 करोड़ हो गई और 2014 में उनकी संपत्ति 9 करोड़ हो गई। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने ये बताएं कि उनकी संपत्ति 55 लाख से 9 करोड़ रुपए कैसे हो गई है।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हम राहुल गांधी से पूछना चाहते हैं कि ये उनका कैसा मॉडल ऑफ डेवलपमेंट है। अभी तक हमने वाड्रा मॉडल ऑफ़ डेवलपमेंट ही देखा था जिसमें 6 या 7 लाख रुपये लगाइये और दो तीन वर्षों में 700 से 800 करोड़ रुपये की सम्पत्ति के मालिक हो जाइये। अब हमें राहुल गांधी मॉडल ऑफ़ डेवलपमेंट का भी पता चला है।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जब मोदी जी गुजरात से दिल्ली आये तो उन्होंने वेतन के रूप में मिले 21 लाख रुपये मुख्यमंत्री कार्यालय के चपरासियों के बच्चों में बांट दिए। एक तरफ ईमानदारी का ये पैमाना हैं और दूसरी तरफ बिना कमाई के साधन के संपत्ति 55 लाख से बढ़कर 9 करोड़ हो जाती है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी खुद बताए कि आखिरी उनकी संप्तित 55 लाख से 9 करोड़ रुपए कैसे हो गई?