हज यात्रा प्रक्रिया को ऑनलाइन कर देने से किफायती हो गई: नकवी

मुंबई: हज संबंधी प्रक्रियाओं को ऑनलाइन कर देने से यह सालाना यात्रा किफायती हो गई है, जबकि अब सब्सिडी नहीं दी जा रही है. सरकार ने हज सब्सिडी पिछले साल खत्म कर दी थी, ऐसा दावा केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने किया

बता दें, ऐसा उच्च न्यायालय के 2012 के एक आदेश के अनुपालन में किया गया था. अल्पसंख्यक कार्य मंत्री के हवाले से एक बयान में कहा गया है कि समूची हज प्रक्रिया को पूरी तरह से ऑनलाइन/डिजिटल कर देने से यह सालाना यात्रा किफायती हो गई है, जबकि हज सब्सिडी खत्म कर दी गई है. साथ ही प्रक्रिया पूरी तरह से हज यात्रियों के लिए अनुकूल बना दी गई है.

यहां दो दिवसीय एक प्रशिक्षण शिविर का उद्घाटन करने के दौरान उन्होंने यह टिप्पणी की. हज यात्रा के दौरान सहायता मुहैया करना शिविर का उद्देश्य है. उन्होंने कहा कि 2018 में सब्सिडी हटाए जाने के बावजूद हज यात्रियों ने हवाई यात्रा में करीब 57 करोड़ रूपये बचाए.

नकवी ने आगे कहा कि हज यात्रा पर इस साल जीएसटी 18 फीसदी से घटा कर पांच फीसदी कर दिया गया है. जीएसटी घटाने से विमान किराये में कम लागत आएगी. उन्होंने कहा कि आजादी के बाद पहली बार पिछले साल 1,75,025 भारतीय मुसलमानों ने हज यात्रा की और वह भी बगैर किसी सब्सिडी के. इनमें 48 फीसदी महिलाएं थी. उन्होंने यह भी बताया कि इस साल 2,340 मुस्लिम महिलाएं बगैर मेहरम के हज पर जाएंगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here