‘बिम्सटेक’ देश आपस में मिलकर जलवायु परिवर्तन की प्रतिकूलता से निपटेंगे

0
10

काठमांडो। नेपाल की राजधानी काठमांडो में हुए दो दिवसीय बिम्सटेक सम्मलेन में भाग लेने वाले सदस्य देशों ने जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों से निबटने के लिए पर्यावरण विशेषज्ञों का एक दल गठित करने की संभावनाओं की तलाश पर सहमति प्रकट की है। बिम्सटेक भारत, बांग्लादेश, म्यामांर, श्रीलंका, थाईलैंड और नेपाल का क्षेत्रीय संगठन संगठन है । इन देशों में विश्व की 22 फीसदी जनसंख्या रहती है।

जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों को लेकर गंभीर चिंता प्रकट करते हुए भारत सहित बिम्सटेक के छह अन्य सदस्य देशों ने जरुरी सामूहिक कार्रवाई के वास्ते कार्ययोजना तैयार करने के लिए एक अंतर – सरकार विशेषज्ञ दल स्थापित करने की संभावना खंगालने का फैसला किया । दो दिवसीय चौथे बिम्सटेक सम्मेलन के समापन पर जारी काठमांडो घोषणा पत्र के अनुसार सदस्य देशों ने पर्यावरण की रक्षा और उसके संरक्षण के लिए सहयोग बढ़ाने का निश्चय किया । इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हिस्सा लिया ।

घोषणा पत्र के मुताबिक नेताओं ने पर्यावरण के क्षरण, जलवायु परिवर्तन और धरती के बढ़ते तापमान का नाजुक हिमालयी और पर्वतीय पारिस्थितिकियों तथा बंगाल की खाड़ी एवं हिंद महासागर पर प्रतिकूल प्रभावों को लेकर गंभीर चिंता प्रकट की। उसके अनुसार बिम्सटेक देश लोगों के जीवन और उनकी जीविका पर जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों का समाधान करने के लिए पर्यावरण को सुरक्षित बचाए रखने के लिए सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here