सुंजवां आतंकी हमला : ऑपरेशन के 30 घंटे, 5 जवान शहीद, 4 आतंकी ढेर

0
53

शनिवार की सुबह 4.55 को जम्मू कश्मीर के सुंजवां आर्मी कैंप में घुसे आतंकियों के खिलाफ सेना का ऑपरेशन ३० घंटे बाद अब भी जारी है। ऑपरेशन के दौरान सुरक्षा बलों ने अब तक चार आतंकियों को मार गिराया है, जबकि पांच जवान शहीद हो गए हैं। वहीं एक आम नागरिक को भी अपनी जान गंवानी पड़ी है। जबकि 9 लोग घायल हुए हैं। फिलहाल आर्मी चीफ बिपिन रावत भी कैंप में मौजूद हैं। वहीं एनआईए की टीम भी सुंजवां कैंप पहुंच चुकी है।

आतंकियों को मार गिराने के लिए शनिवार सुबह सेना का ऑपरेशन शुरू हुआ था। फिलहाल सुंजवां आर्मी कैंप में एक से दो और आतंकियों के छिपे होने की आशंका जताई जा रही है।

आपको बता दें कि मसूद अज़हर के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शनिवार तड़के 36 ब्रिगेड ऑफ जम्मू कश्मीर लाइट इनफेन्ट्री कैम्प में घुस आए। जिसके बाद हुई फायरिंग में आर्मी के दो जूनियर कमिशंड ऑफिसर्स और एक नॉन कमिशंड ऑफिसर शहीद हो गए। जबकि 3 और जवानों के शहीद होने की खबर आज आई है। वहीं 9 लोगों के घायल होने की भी खबर है, जिनमें से 6 सेना के जवान हैं जबकि 3 आम नागरिक हैं। इस हमले में सेना के एक जवान के पिता की भी मौत हो गई। वहीं सेना के एक जवान की बेटी भी घायल हो गई है।

सेना ने ऑपरेशन शुरू होने के बाद से अबतक 4 आतंकियों को मार गिराया गया है। कल शनिवार को 3 आतंकियों को मार गिराया गया था, जबकि चौथे आतंकी को मारे जाने की खबर आज आई है।

इस बीच रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि इस मुश्किल घड़ी में हमें सुरक्षा बलों के साथ खड़े रहना चाहिए। उनकी हिम्मत बढ़ानी चाहिए। लेकिन ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस नेता इस मुश्किल घड़ी में भी राजनीति कर रहे हैं। जवानों के खून और पसीने के ऊपर होने वाली राजनीति का मैं कड़े शब्दों में निंदा करता हूं।

सुंजवां आर्मी कैम्प पर हुए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड जैश-ए-मोहम्मद के चीफ आतंकी मसूद अजहर का भाई रउफ असगर है। फरवरी के पहले हफ्ते में रउफ अपने भाई मौलाना मसूद अजहर के साथ हिजबुल के चीफ सैयद सलाउद्दीन से मिला था और 9 फरवरी को आतंकी अफजल गुरु की बरसी के दिन दोनों ने हमले को अंजाम देने के लिए मदद मांगी थी।

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को उच्च स्तरीय बैठक कर आतंकी हमले से उत्पन्न हुए हालात की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने मुठभेड़ में शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उनकी वीरता की प्रशंसा की और शोक संतप्त परिवारों के साथ सहानुभूति जताई। उन्होंने घायल सैनिकों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की और अधिकारियों को उन्हें सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा सुविधाएं प्रदान करने का निर्देश दिया।

पाकिस्तान को निशाने पर लेते हुए जम्मू-कश्मीर के डिप्टी सीएम निर्मल सिंह ने कहा, ‘यह निंदनीय हरकत है। ये हमला पाकिस्तान की कायरता को दर्शाता है जो सीधे तौर पर भारत का सामना नहीं कर सकता और मासूम नागरिकों पर हमला करने के लिए अपने लोगों (आतंकियों) को भेजता है।

सेना के प्रवक्ता देविंदर आनंद ने बताया कि आतंकी अत्याधुनिक हथियारों से लैस थे। ये आतंकी सेना की वर्दी में थे और एके 56 असाल्ट राइफलों, गोला बारूद और हथगोलों से लैस थे। तलाशी से पुष्टि हुई है कि वे जैश ए मोहम्मद के आतंकी हैं। इस हमले में सूबेदार मगनलाल चौधरी और हवलदार हबीबुल्ला कुरैशी शहीद हो गए। पांच महिलाओं और एक बच्ची सहित नौ लोग घायल हैं, जिनमें से दो की हालत गंभीर है।

आतंकियों से मुकाबला करने के लिए हेलीकॉप्टर के जरिए वायुसेना के पैरा कमांडो को एयरलिफ्ट कराया गया है। वायुसेना ने इन सभी पैरा कमांडोज को उधमपुर से जम्मू में एयरलिफ्ट किया गया।

अधिकारियों ने एहतियाती कदम के रूप से शिविर के आसपास के 500 मीटर के दायरे में सभी स्कूलों को बंद रखने का आदेश दिया है। जम्मू में हाईअलर्ट घोषित किए जाने के साथ ही आसपास के इलाकों में भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक एस पी वैद्य से बात कर शिविर पर हुए आतंकी हमले के बारे में जानकारी ली। गृह मंत्रालय ने कहा है कि गृह मंत्री इस संबंध में रक्षा मंत्री और जम्मू-कश्मीर सरकार के साथ निरंतर संपर्क बनाए हुए है और मंत्रालय स्थिति पर कड़ी नजर रखे हुए है। अपनी प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आश्वस्त रहिए, हमारी सेना और सुरक्षा बल प्रभावी तरीके से अपना काम कर रहे हैं और अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। वे कभी भी किसी भी भारतीय का सर शर्म से झुकने नहीं देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here