16 हज़ार महिलाओं ने प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से मांगी जौहर की इजाजत

0
52

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ पर देश भर में बैन लगाने की मांग को लेकर 16,000 महिलाओं ने पीएम नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखकर जौहर (इच्छामृत्यु) की इजाजत मांगी है। राजस्थान की ये महिलाएं राजपूत के अलावा दूसरे समाज से भी ताल्लुक रखती हैं। इस फिल्म के विरोध में राजपूतों के साथ सर्व समाज की महिलाएं भी शामिल हो गई हैं। फ़िल्म पद्मावत को रिलीज़ करने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद देशभर में फ़िल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने को लेकर उग्र प्रदर्शन शुरू हो गए हैं।

इससे पहले पद्मावत के विरोध में राजपूत महिलाओं ने 24 जनवरी को चित्तौड़गढ़ किले में सामूहिक ‘जौहर’ की चेतावनी दी है। श्रीराजपूत करणी सेना के प्रमुख महिपाल मकराना ने कहा था कि राजपूत समाज की 1826 महिलाएं 24 जनवरी को चित्तौड़गढ़ में जौहर करेंगी।

वहीं दूसरी ओर, फिल्म पद्मावत पर बैन लगाने की मांग को लेकर मध्य प्रदेश और राजस्थान सरकार ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। दोनों राज्य सरकारों ने कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए सुप्रीम कोर्ट से अपने पिछले आदेश पर पुनर्विचार की गुजारिश की है।

शीर्ष अदालत ने उनकी यह याचिका स्वीकार कर ली है और अब मंगलवार को इस पर सुनवाई करेगा। गौरतलब है कि ‘पद्मावत’ के खिलाफ देश के कई हिस्सों में प्रदर्शन हो रहा है। करणी सेना ने थियेटर मालिकों को खुली चेतावनी दी है कि फिल्म रिलीज करने का नतीजा बुरा होगा। वहीं कुरुक्षेत्र के कैसल मॉल में रविवार शाम 20-25 नकाबपोश बाइकसवारों ने जमकर उत्पात मचाया। कुरुक्षेत्र पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here