प्रधान मंत्री द्वारा गुजरात चुनाव में पाकिस्तान का नाम लेना रास नहीं आया शिव सेना को

0
320

मुंबई। गुजरात विधान सभा चुनाव प्रचार के दौरान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पाकिस्तान पर चुनाव में दखलंदाजी का आरोप लगाना भाजपा के सहयोगी दल शिव सेना को रास नहीं आया है। पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला करते हुये कहा कि गुजरात चुनाव प्रचार में पाकिस्तान को घसीटना चुनाव जीतने की ‘‘नापाक’’ कोशिश है। मोदी पर निशाना साधते हुये शिवसेना ने कहा कि गुजरात कश्मीर से भी महत्वपूर्ण हो गया है।

बता दें की प्रधान मंत्री मोदी ने रविवार को अपने चुनाव प्रचार के दौरान पाकिस्तान पर आरोप लगाया था कि वह गुजरात विधानसभा चुनावों को प्रभावित करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने दावा किया था कि मणिशंकर अय्यर के उनके खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने से एक दिन पहले कुछ पाकिस्तानी अधिकारियों और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मुलाकात की थी।

शिव सेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा है, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी ने गंभीर आरोप लगाया है कि पाकिस्तान गुजरात चुनावों में हस्तक्षेप करने की कोशिश कर रहा है। हम मोदी की चिंताओं को समझते हैं लेकिन प्रधानमंत्री को कार्रवाई करनी चाहिये, आरोप नहीं लगाने चाहिये।’’

सम्पादकीय में कहा गया, ‘‘गुजरात अब कश्मीर से भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया है। कल तक पाकिस्तान कश्मीर में हस्तक्षेप कर रहा था और अब अगर प्रधानमंत्री गुजरात में पाकिस्तान को लेकर ज्यादा चिंतित हैं तो यह बात शिवसेना को भी चिंतित करती है।

संपादकीय में यह भी कहा गया है कि प्रधानमंत्री को पड़ोसी राष्ट्र के हस्तक्षेप के बारे में सिर्फ बात करने के बजाय उसके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिये। शिवसेना ने अपने संपादकीय में कहा कि आजकल सभी चुनावों में या तो पाकिस्तान या फिर भगोड़े अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को सामने ले आया जाता है। जब पांवों के नीचे की जमीन खिसकने लगती है, पाकिस्तान और दाऊद के नाम का माला जाप शुरू हो जाता है। आज भी यही हो रहा है। यह नापाक तरीका है। शिवसेना ने कहा कि बिहार चुनावों में भी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने पाकिस्तान का जिक्र किया था। उनके यह कहने के बावजूद कि नीतीश जीते तो पाकिस्तान में पटाखे फोड़े जायेंगे, भाजपा की हार हुई। प्रधानमंत्री के पास अगर (निलंबित कांग्रेसी नेता) मणिशंकर अय्यर के घर पर हुई बैठक के बारे में जानकारी है कि यह राष्ट्र विरोधी गतिविधि के लिये हुई तो वह सिर्फ आरोप क्यों लगा रहे हैं, बैठक में मौजूद सभी लोगों को गिरफ्तार कर जांच क्यों नहीं करवा रहे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here